Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

IND vs ZIM: 7 महीने बाद कैसे हुई दीपक चाहर की इतनी बेहतरीन वापसी, खुद खोला सबसे बड़ा राज

 IND vs ZIM: जिम्बाब्वे पर पहले वनडे में भारत की 10 विकेट से जीत में तेज गेंदबाज दीपक चाहर ने महत्वपूर्ण योगदान दिया. उन्होंने 3-27 का आंकड़ा दर्ज किया. चाहर ने लगभग सात महीने बाद क्रिकेट में वापसी की है. 


जिम्बाब्वे पर पहले वनडे में भारत की 10 विकेट से जीत में तेज गेंदबाज दीपक चाहर ने महत्वपूर्ण योगदान दिया. उन्होंने 3-27 का आंकड़ा दर्ज किया. चाहर ने लगभग सात महीने बाद क्रिकेट में वापसी की है. उनका कहना है कि उन्होंने अपनी गेंदबाजी की कुशलता वहीं से सीखी है, जहां चोटों के कारण बाहर होने से पहले उन्होंने छोड़ा था.

चाहर ने की बेहतरीन वापसी
चाहर बाएं क्वाड्रिसेप्स की चोट के कारण फरवरी में वेस्टइंडीज के खिलाफ टी20 सीरीज के बाद से क्रिकेट से बाहर थे और फिर उन्हें पीठ में चोट लग गई, जिसने उन्हें चेन्नई सुपर किंग्स के लिए आईपीएल 2022 से बाहर कर दिया. हालांकि, वह इस समय यूएई में 27 अगस्त से शुरू हो रहे एशिया कप के लिए रिजर्व में शामिल हैं. चाहर ने मैच के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा, 'यह मेरे हाथ में नहीं है कि मुझे पुरुषों के टी20 विश्व कप के लिए चुना जाएगा या नहीं, लेकिन प्रदर्शन के हिसाब से मैंने बहुत मेहनत की है. मुझे लगता है कि मैंने अपनी गेंदबाजी वहीं से शुरू की है, जहां से मैंने इसे छोड़ा था. मैच के पहले दो ओवरों को छोड़कर मैंने अच्छी गेंदबाजी की. मैंने पारी में 7 ओवर फेंके, जो दशार्ता है कि मेरा फिटनेस स्तर ठीक है.'

जिम्बाब्वे के खिलाफ किया कमाल
अपनी अंतरराष्ट्रीय वापसी के लिए तैयारियों के बारे में पूछे जाने पर चाहर ने बताया, 'मुझे पता था कि मैं इस सीरीज में अपनी वापसी करूंगा, जो एक एकदिवसीय सीरीज है. जिस दिन मैंने गेंदबाजी शुरू की, पहले सत्र में मैंने छह ओवर फेंके. यहां आने से पहले, मैंने दो-तीन अभ्यास मैच खेले, जहां मैंने कुल 10 ओवर फेंके.' उन्होंने आगे बताया, 'टीम में अपना स्थान फिर से हासिल करने के लिए आपको बड़ी तैयारी करनी होगी, जिससे आप अच्छा प्रदर्शन दे पाएं.' हालांकि, उन्होंने अपनी गेंदें ज्यादातर अच्छी लेंथ वाले क्षेत्रों में फेंकी, लेकिन शॉर्ट गेंद में चाहर को बल्लेबाज इनोसेंट कइया के रूप में सफलता हाथ लगी.

चटकाए तीन विकेट
उन्होंने अपने अगले ओवर में तदिवानाशे मारुमानी को वापस पवेलियन भेज दिया. पावर-प्ले के बाद, चाहर को तीसरी सफलता मिली. उन्होंने वेस्ली माधेवेरे को सीधी गेंद पर पगबाधा आउट किया था. 'मेरी योजना हमेशा सरल होती है. जब गेंद स्विंग कर रही हो, तो फुल लेंथ से गेंदबाजी करने की कोशिश करें और अधिक से अधिक विकेट लेने की कोशिश करें. जब गेंद स्विंग नहीं कर रही हो, तो प्लान बी या प्लान सी भी होता है. मैच के दौरान जब मैंने गेंदबाजी की तो मेरी एक सरल योजना थी- फुल बॉल, स्विंग मिक्स और बल्लेबाजों को भ्रमित करना.'

Post a Comment

0 Comments