Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

संजय राउत को नहीं मिली राहत, 14 दिन के लिए बढ़ाई गई न्यायिक हिरासत; अब 21 को होगी सुनवाई

पात्रा चॉल स्कैम केस में शिवसेना सांसद संजय राउत की न्यायिक हिरासत एक बार फिर बढ़ा दी गई है। इसे 14 दिनों के लिए बढ़ाया गया है। अब संजय राउत की जमानत याचिका पर 21 सितंबर, बुधवार को सुनवाई होगी।


पात्रा चॉल स्कैम केस में शिवसेना सांसद संजय राउत की न्यायिक हिरासत 14 दिनों के लिए बढ़ा दी गई है। राउत जमानत याचिका पर अब 21 सितंबर को सुनवाई होगी। मामले में कोर्ट के निर्देशों का पालन करते हुए ईडी अफसरों ने चार्जशीट संजय राउत को सुपुर्द कर दी गई है। इससे पहले पांच सितंबर को ईडी की स्पेशल कोर्ट ने संजय राउत की हिरासत 19 सितंबर तक बढ़ा दी थी। गौरतलब है कि राउत एक महीने से अधिक समय से न्यायिक हिरासत में हैं। फिलहाल राउत आर्थर रोड सेंट्रल जेल में बंद हैं। उन्हें 31 जुलाई को ईडी ने गिरफ्तार किया था।


संजय ने कहा था जमानत दे दें, जांच जारी रखें
गौरतलब है कि इससे पहले संजय राउत ने विशेष अदालत में अपनी जमानत अर्जी दाखिल की थी। इसमें उन्होंने तत्काल सुनवाई की मांग भी की थी। हालांकि उस वक्त कोर्ट के बिजी होने के चलते यह सुनवाई नहीं हो पाई थी। तब संजय राउत ने यह भी कहा था कि ईडी जांच जारी रख सकती है, लेकिन उन्हें जेल में रखने से कुछ नहीं होगा। 


पात्रा चॉल स्कैम में यह हुआ था
पात्रा चॉल स्कैम साल 2007 में सामने आया था। तब महाराष्ट्र हाउसिंग एंड डेवलपमेंट अथॉरिटी (MHADA) ने चॉल में रहने वाले परिवारों को स्थायी घर देने के लिए फ्लैट बनाकर देने की योजना शुरू की थी। यह काम गोरेगांव के सिद्धार्थ नगर में होना था। पात्रा चाल के पुनर्विकास का काम गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन कंपनी को दिया गया था। म्हाडा की 47 एकड़ की जमीन में 672 घर बने हैं। कंपनी को साढ़े तीन हजार फ्लैट बनाकर देने थे। म्हाडा का प्लान था कि फ्लैट बनने के बाद जो जमीन बचेगी उसे बेच दिया जाएगा। हालांकि 14 साल के बाद भी कंपनी ने यहां फ्लैट नहीं बनाए। आरोप है कि गुरु आशीष कंस्ट्रक्शन कंपनी ने म्हाडा के साथ धोखाधड़ी की और बिना फ्लैट बनाए ही जमीन बिल्डरों को बेच दी। इससे उसे 901 करोड़ रुपये से ज्यादा का मुनाफा हुआ.

Post a Comment

0 Comments