Monkeypox: दुनिया के 60 देशों में फैला मंकीपॉक्स का खतरा, WHO ने अब किया ये बड़ा ऐलान

 दुनिया के 60 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स वायरस पांव पसार चुका है. अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस बीमारी को लेकर बड़ा ऐलान किया है. WHO ने कहा कि है कि मंकीपॉक्स का जोखिम विश्व स्तर पर देखने को मिल रहा है.


दुनिया के 60 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स वायरस पांव पसार चुका है. अब विश्व स्वास्थ्य संगठन ने इस बीमारी को लेकर बड़ा ऐलान किया है. WHO ने कहा कि है कि मंकीपॉक्स का जोखिम विश्व स्तर पर देखने को मिल रहा है. यूरोपीय देशों में इस घातक वायरस का जोखिम सबसे ज्यादा है. मौजूदा हालात देखते हुए यह कहना गलत नहीं होगा कि आगे इसके अंतरराष्ट्रीय प्रसार का एक स्पष्ट जोखिम है. हालांकि अंतरराष्ट्रीय यातायात में हस्तक्षेप का जोखिम फिलहाल कम है. तमाम जोखिमों को देखते हुए WHO ने मंकीपॉक्स को ग्लोबल पब्लिक हेल्थ इमरजेंसी घोषित किया है.

डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनॉम घेब्येयियस ने शनिवार को कहा कि तेजी से फैल रहा मंकीपॉक्स का प्रकोप वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल को दर्शाता है. वैश्विक स्वास्थ्य आपातकाल विश्व स्वास्थ्य संगठन का उच्चतम स्तर का अलर्ट है. ट्रेडोस ने कहा कि मंकीपॉक्स को लेकर अब अंतर्राष्ट्रीय प्रतिक्रिया की जरूरत है. इसके साथ ही वैक्सीन और इस इलाज साझा करने में सहयोग करने के लिए धन और वैश्विक प्रयासों की जरूरत है.

जिनेवा में एक मीडिया ब्रीफिंग के दौरान स्वास्थ्य आपातकाल घोषित करने के अपने फैसले की घोषणा करते हुए, टेड्रोस ने पुष्टि की कि समिति आम सहमति तक पहुंचने में विफल रही है. इस साल अब तक 60 से अधिक देशों में मंकीपॉक्स के 16,000 से अधिक मामले सामने आ चुके हैं और अफ्रीका में इस बीमारी की चपेट में आए 5 लोगों की मौत भी हो चुकी है.
Tags

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.