Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

सरकारी दफ्तर में सनसनी : मिट्टी का तेल छिड़क आत्महत्या करने पहुंचा कारोबारी, पुलिस के होश गुम


कारोबारी ने रवीवार को वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) कार्यालय परिसर में आत्महत्या का प्रयास किया। इसके चलते वहां एकाएक हड़कंप मच गया। यह देखकर हरकत में आए पुलिस कर्मियों ने पीड़ित को पकड़ कर व्यथा जानी।

बाद में कारोबारी की मुलाकात अधिकारियों से कराई गई। कुछ असरदार व्यक्तियों के आतंक और पुलिस की लचर कार्यशैली से नाराज होकर पीड़ित जान देने पर उतारू हो गया था।

आरोपियों पर पुलिस की नरमी
दिल्ली से सटे जनपद गाजियाबाद में यह मामला प्रकाश में आया है। विजय नगर थानांतर्गत चरण सिंह कॉलोनी में जितेंद्र कुमार सपरिवार रहते हैं। वह साप्ताहिक बाजार में दुकान लगाकर अपनी एवं परिवार की आजीविका चला रहे हैं। जितेंद्र का कुछ व्यक्तियों से काफी समय से विवाद चल रहा है। आरोपियों के विरूद्ध एससी/एसटी एक्ट में एफआईआर भी दर्ज कराई गई थी। आरोपी अब केस वापसी के लिए अनावश्यक दबाव बना रहे हैं।


एसएसपी कार्यालय में हड़कंप
गत 20 दिसम्बर को जितेंद्र ने विजय नगर थाने के पीछे साप्ताहिक बाजार में दुकान लगाई थी। दुकान पर उनके भतीजे कमलसुमित बैठे थे। इस बीच आरोपियों ने वहां आकर कमल व सुमित के साथ गाली-गलौच कर मारपीट की। आरोप है कि पिस्टल की बट से सिर में प्रहार कर दिए जाने से दोनों घायल हो गए थे। शिकायत के बावजूद पुलिस ने इस प्रकरण में अब तक आरोपियों के खिलाफ एक्शन नहीं लिया है। इससे तंग आकर जितेंद्र कुमार रवीवार को अपने कपड़ों पर मिट्टी का तेल छिड़क कर एसएसपी कार्यालय पहुंच गए।

कार्रवाई का आश्वासन मिला.

वहां उन्होंने आत्महत्या की कोशिश की। गनीमत रही कि वहां मुस्तैद पुलिस कर्मियों ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया। कारोबारी की व्यथा जानने के बाद पुलिस कर्मियों ने अधिकारियों से उनकी मुलाकात कराई। अधिकारियों ने उचित कार्रवाई का आश्वासन देकर उन्हें लौटा दिया। उधर, इस घटनाक्रम के कारण पुलिस कप्तान कार्यालय परिसर में अफरा-तफरी मची रही। बता दें कि कुछ दिन पहले भी एक फरियादी ने पुलिस से परेशान होकर अद्र्धनग्नावस्था में खासा हंगामा किया था।

Post a Comment

0 Comments