Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

कालीचरण महाराज की मुश्किलें और बढ़ीं, भड़काऊ भाषण देने के मामले में अब पुणे में भी केस दर्ज


खुद को संत बताने वाले कालीचरण महाराज की मुसीबतें बढ़ती जा रही हैं. कालीचरण महाराज के खिलाफ अब पुणे में भी भड़काऊ भाषण देने की वजह से मामला दर्ज किया गया है. 19 दिसंबर को पुणे के नातू बाग में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था. इस कार्यक्रम में कालीचरण महाराज और बाकी वक्ताओं ने भाषण दिए थे. इन भाषणों की वीडियो क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल हो गई. इसके बाद पुणे पुलिस ने इस कार्यक्रम का संज्ञान लेते हुए कालीचरण महाराज के साथ मिलिंद एकबोटे, नंदकुमार एकबोटे, मोहन शेटे और दीपक नागपुरे के खिलाफ मामला दर्ज किया है. दीपक नागपुरे पुणे नगर निगम की बीजेपी पार्षद मंजुषा नागपुरे के पति हैं.

वहीं मिलिंद एकबोटे के खिलाफ इससे पहले भी भीमा कोरेगांव में हुए हिंसाचार समेत कई मामले दर्ज हैं. कालीचरण महाराज के महात्मा गांधी के ऊपर दिए आपत्तिजनक बयान के बाद छत्तीसगढ़ में मामला दर्ज हुआ है. उसके बाद अब पुणे पुलिस ने भी कालीचरण महाराज के खिलाफ मामला दर्ज किया है.

गौरतलब है कि खुद को कालीपुत्र बताने वाले कालीचरण ने रायपुर धर्म संसद में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर अपशब्द कहे थे. इसको लेकर 26 दिसंबर की रात कांग्रेस ने थाने शिकायत दर्ज कराई थी और टीकरापारा थाने में कालीचरण के खिलाफ धारा 294 और 505 (2) के तहत अपराध पंजीबद्ध किया है. इसके बाद 27 दिसंबर देर रात कालीचरण ने अपने यूट्यूब चैनल में 8 मिनट 51 सेकेंड का एक वीडियो जारी किया था.

वीडियो में कालीचरण ने कहा था कि उसे इस बात का कोई अफसोस नहीं कि उसने गांधी के लिए अपशब्द कहे. बल्कि एक बार फिर कालीचरण ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर आरोप लगाए हैं. उसने सरदार पटेल के बजाय नेहरू को प्रधामंत्री बनने पर सवाल उठाया है. इतना ही नहीं महात्मा गांधी को राष्ट्रपिता नहीं वंशवाद का जनक बोला गया है.

Post a Comment

0 Comments