Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

लखनऊ: 1090 चौराहे पर डिवाइडर में घुसी बेकाबू तेज रफ्तार कार, तीन की दर्दनाक मौत

कार पुनीत मोटर्स तिवारीगंज से टेस्ट ड्राइव के लिए जा रही थी। हादसे में एजेंसी के दो कर्मचारियों व चौराहे पर खड़े बाइक सवार की मौत हो गई।


तेज रफ्तार बेकाबू कार ने 1090 चौराहे पर डिवाइडर पार्क के पास में खड़े होकर साथी का इंतजार कर रहे वहीद आलम को टक्कर मार दी। मौके पर ही वहीद की मौत हो गई। वहीं, कार में तीन लोग फंस गए। हादसे के बाद दो को स्थानीय लोगों ने किसी तरह बाहर निकाला। जिसमें मनीष दुबे और अरुण पांडेय है। दोनों पुनीत मोटर्स के कस्टमर एडवाइजर थे। वहीं चालक रामनिवास की मौत हो गई। उसके  शव को बाहर निकालने में गैस कटर का प्रयोग करना पड़ा।

सूचना पर पहुंची पुलिस ने सभी शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। वहीं घायल अरुण को इलाज के लिए लोहिया अस्पताल में भेजा गया है। पुलिस के मुताबिक पुनीत मोटर्स की कार तीन कर्मचारी लेकर टेस्ट ड्राइव के लिए किसी ग्राहक के घर जा रहे थे।

एसीपी हजरतगंज अखिलेश सिंह के मुताबिक बृहस्पतिवार सुबह करीब 11 बजे पॉलीटेक्निक की तरफ से तेज रफ्तार कार 1090 कार्यालय के पास बने डिवाइडर पार्क में जा घुसी। हादसे में डिवाइडर पार्क के पास खड़े होकर अपने साथी का इंतजार कर रहे बाइक सवार कन्नौज सौरीख निवासी वहीद की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं कार के परखच्चे उड़ गये। हादसे के वक्त कार में एजेंसी के तीन कर्मचारी मौजूद थे। दो कस्टमर एडवाइजर मनीष दुबे और अरुण पांडेय थे। वहीं कार आजमगढ़ का रामनिवास चला रहा था। हादसें में वहीद और रामनिवास की मौके पर ही मौत हो गई।

हादसे की सूचना पर पहुंची पुलिस ने कार सवार दोनों को घायलों को स्थानीय लोगों की मदद से बाहर निकालकर सिविल अस्पताल भेजा। जहां मनीष दुबे को चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया। वहीं, अरुण को गंभीर हालत देख लोहिया अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है।

कार चालक का शव निकालने में लगे ढाई घंटे
एसीपी हजरतगंज अखिलेश सिंह के मुताबिक हादसे में कार पूरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गई थी। सूचना पर गौतमपल्ली व हजरतगंज थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। वहां इंस्पेक्टर हजरतगंज श्याम बाबू शुक्ला ने अपनी टीम के साथ बचाव कार्य शुरू किया। वहीं कार चालक का शव बाहर निकालने की कोशिश शुरू की, लेकिन सफल नहीं हो सके। इसके बाद एक निजी गैस कटर संचालक को बुलाया गया। लेकिन उससे भी काम नहीं बन सका। इसके बाद इंस्पेक्टर हजरतगंज श्यामबाबू शुक्ला ने चीफ फायर अफसर विजय सिंह से संपर्क कर हादसे की सूचना दी। जिस पर सीएफओ विजय सिंह ने कटर के साथ विशेष दस्ता भेजा। मौके पर करीब डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद कार को काटकर चालक रामनिवास का शव बाहर निकाला गया। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

Post a Comment

0 Comments