Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

KGF के रॉकी भाई को कॉपी कर आफत में आई जान, अस्पताल पहुंचा 15 साल का लड़का

KGF Chapter 2: 'रॉकी भाई' से प्रेरित होकर 15 साल के लड़के की सेहत इतनी खराब हो चुकी है वह अब अस्पताल में है. इस लड़के ने फिल्म को रिलीज होने के अगले सप्ताह देखा था, जिसके बाद से वह रॉकी की एक हरकत को कॉपी कर रहा था. 


'रॉकी भाई' से प्रेरित होकर हैदराबाद के एक किशोर ने एक पैकेट सिगरेट पी लिया, जिसके बाद उसने गंभीर खांसी और गले में दर्द की शिकायत की और उसे अस्पताल ले जाना पड़ा. शहर के एक प्रमुख मल्टी-स्पेशलिटी सेंचुरी हॉस्पिटल के डॉक्टरों ने शनिवार को बताया कि उन्होंने एक किशोर का सफलतापूर्वक इलाज किया है, जो केजीएफ फिल्म की सीरीज (K.G.F Indian film series) के एक कैरेक्टर 'रॉकी भाई' से प्रेरित होकर सिगरेट पीता था और गंभीर रूप से बीमार हो गया था. मजबूत परामर्श के साथ-साथ सिगरेट पीने के बाद के प्रभावों से राहत देने के लिए लड़के को तत्काल इलाज की जरूरत थी.


फिल्म देखने के बाद लगातार धूम्रपान 

हैदराबाद के राजेंद्रनगर के निवासी, 15 वर्षीय लड़के को सेंचुरी अस्पताल ले जाया गया, जब उसके माता-पिता को पता चला कि उसने केवल दो में तीन बार 'केजीएफ 2' (KGF Chapter 2) फिल्म देखने के बाद लगातार धूम्रपान किया था. लड़के ने सिनेमाघरों में रिलीज होने के दूसरे सप्ताह में फिल्म देखी और मुख्य किरदार 'रॉकी भाई' से प्रेरित था.

इसे भी पढ़ें: आर्यन खान को क्लीन चिट मिलने के बाद खुलेगी रिया चक्रवर्ती की फाइल? वकील ने जांच की मांग की



टीनएजर्स जल्द होते हैं ऐसे किरदारों से इंप्रेस 

सेंचुरी हॉस्पिटल के कंसल्टेंट पल्मोनोलॉजिस्ट डॉ रोहित रेड्डी पथुरी ने मामले पर कहा: 'टीनएजर्स आसानी से 'रॉकी भाई' जैसे पात्रों से प्रभावित हो जाते हैं. इस मामले में, यह युवा लड़का धूम्रपान करने लगा और एक पूरा पैकेट पीने के बाद गंभीर रूप से बीमार हो गया. फिल्में हमारे समाज का एक अत्यधिक प्रभावशाली तत्व हैं, और यह महत्वपूर्ण है कि फिल्म निर्माताओं और अभिनेताओं की नैतिक जिम्मेदारी है कि वे धूम्रपान या तंबाकू चबाने या शराब का सेवन करने जैसे कार्यों को ग्लैमराइज न करें.'


बाद में पछताने से बेहतर है पहले जागरूक होना 

उन्होंने कहा, 'किशोरों के माता-पिता को यह सुनिश्चित करना चाहिए कि वे इस पर नजर रखें कि उनके बच्चे क्या कर रहे हैं, और कौन से कारक उनके बच्चे के कामों को प्रभावित कर रहे हैं. बाद में पछताने के बजाय, यह महत्वपूर्ण है कि माता-पिता धूम्रपान जैसे कृत्यों के दुष्प्रभावों के बारे में जागरूकता पैदा करने में भूमिका निभाएं.'

Post a Comment

0 Comments