Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

रांची में दंगा भड़काने की साजिश? धार्मिक स्थल भी टारगेट, विरोध में हनुमान चालीसा पढ़ने बैठे लोग

रांची में शुक्रवार को हिंसा हुई। नारेबाजी, पथराव और तोड़फोड़ करते हुए कुछ उपद्रवियों ने सामाजिक सद्भाव बिगाड़ने की साजिश के तहत मेन रोड दूसरे समुदाय के धार्मिक स्थल को भी निशाना बनाने की कोशिश की।


नूपुर शर्मा की ओर से पैगंबर मोहम्मद साहब को लेकर की गई आपत्तिजनक टिप्पणी के विरोध के नाम पर रांची में शुक्रवार को उपद्रवियों ने जमकर हिंसा की। नारेबाजी, पथराव और तोड़फोड़ करते हुए कुछ उपद्रवियों ने सामाजिक सद्भाव बिगाड़ने की साजिश के तहत मेन रोड दूसरे समुदाय के धार्मिक स्थल को भी निशाना बनाने की कोशिश की। हालांकि, पुलिसकर्मियों ने तोड़फोड़ से रोक लिया, लेकिन ऐसा करते हुए कई लहूलुहान हो गए। हिंसा के विरोध में कुछ लोग सड़क पर हनुमान चालीसा पढ़ने बैठ गए।

भारतीय जनता पार्टी की नेता रही नूपुर शर्मा के विवादित टिप्पणी के खिलाफ और उनकी गिरफ्तारी की मांग को लेकर जुमे के नमाज के बाद लोगों ने हाथ में काला झंडा और धार्मिक झंडा के साथ जुलूस निकाला और लोगों से अपनी दुकान बंद रखने की अपील की। इस दौरान भीड़ बेकाबू हो गई और पुलिस पर पथराव की गई। उग्र भीड़ की ओर से पथराव और रोड़ेबाजी के कारण डेली मार्केट थाना के थाना प्रभारी समेत कई पुलिस कर्मी घायल हो गए। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए पुलिस की ओर से लाठीचार्ज और हवाई फायरिंग की गई।

लूटपाट के बाद लगा दी आग
नुपूर शर्मा की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धर्म विशेष के लोगों ने सुबह से ही अपनी दुकानें बंद रखी थी और दोपहर बाद जुमे की नमाज के बाद लोग अचानक जुलूस की शक्ल में मेन रोड में दुकान बंद कराने निकल पड़े। इस दौरान दोपहर करीब साढ़े 3 बजे के आसपास भीड़ ने काला झंडा के साथ अचानक डेली मार्केट के सामने अल्बर्ट एक्का की चौक की तरफ दौड़ने लगे। इस दौरान उपद्रवियों ने दूसरे समुदाय के लोगों पर भी हमला कर दिया। कई ठेले वालों से लूटपाट के बाद उसमें आग भी लगा दी गईं, वहीं पथराव में कई निजी वाहन और बाइक भी क्षतग्रिस्त हो गए।


आमने-सामने आ चुके थे दो समुदाय
इससे पहले मुस्लिम समुदाय के लोगों ने नुपूर शर्मा के बयान के विरोध में सुबह में अपनी दुकानें बंद रखी थी और अन्य दुकानदारों से भी दुकानें बंद करने को कह रह थे। इसी विवाद के कारण भीड़ अनियंत्रित हुई। डोरंडा इलाके में भी दुकानों को बंद करा दिया गया। घटना की सूचना मिलते ही तत्काल डीआईजी, एसएसपी समेत अन्य वरीय पुलिस पदाधिकारी मौके पर पहुंचे और लोगों से शांति बरतने की अपील की गई। वहीं इस दौरान दूसरे समुदाय के लोग भी दूसरी ओर एकत्रित हो गए और नारेबाजी करने लगे। बाद में पुलिस के हस्तक्षेप से मामले को शांत कराया जा सका। पुलिस की ओर से उपद्रव में शामिल लोगों को सीसीटीवी फुटेज से चह्निति कर कार्रवाई करने की बात कही है। मेन रोड इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बलों की तैनाती कर दी गई है।

Post a Comment

0 Comments