Ticker

6/recent/ticker-posts

Advertisement

गुस्साई भीड़ सड़कों पर आई, अब श्रीलंका में बनेगी सर्वदलीय सरकार, पीएम रानिल विक्रमसिंघे ने दिया इस्तीफा

श्रीलंका में बवाल के बीच प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे इस्तीफा दे दिया है. देश में अब सर्वदलीय सरकार बनने का रास्ता साफ हो गया है.

आर्थिक संकट से जूझ रहे श्रीलंका में शनिवार को जारी राजनीतिक बवाल के बीच अब सर्वदलीय सरकार बनने का रास्ता साफ हो गया है. जनता के गुस्से और देश के हालात को देखते हुए पिछले कुछ समय से राजनीतिक बदलाव की बात कही जा रही थी और राष्ट्रपति गोटाबाया पर इस्तीफा देने का लगातार दबाव बनाया जा रहा था. इस बीच प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे (Prime Minister Ranil Wickremesinghe) ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

शनिवार को हजारों की संख्या में लोगों ने राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे  के आवास पर कब्जा कर लिया था, जिसके बाद राष्ट्रपति गोटाबाया राजपक्षे को अपना आवास छोड़कर भागना पड़ा था. राष्ट्रपति गोटाबाया और प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे के इस्तीफे की मांग की जा रही थी, लेकिन दोनों इस्तीफा देने को तैयार नहीं थे. 


इस्तीफा देने को तैयार पीएम रानिल विक्रमसिंघे
पीएमओ की तरफ से कहा गया कि अब प्रधान मंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने पार्टी नेताओं से कहा है कि वह देश के प्रधान मंत्री के रूप में इस्तीफा देने और सर्वदलीय सरकार के लिए रास्ता बनाने के लिए तैयार हैं. कहा जा रहा है कि स्पीकर महिंदा यापा अभयवर्धने के घर जूम पर हुई नेताओं की वर्चुअल बैठक में राष्ट्रपति और पीएम को पद से हटाने की बात रखी गई थी.


सांसद ने किया ट्वीट
विक्रमसिंघे की सरकार में सांसद रऊफ हकीम ने ट्वीट करते हुए जानकारी दी कि नेताओं ने पीएम और राष्ट्रपति के इस्तीफे की पेशकश की है. हालांकि इस प्रस्ताव पर अंतिम फैसला स्पीकर करेंगे.


आर्थिक तंगी से जूझ रहा श्रीलंका
बता दें कि शनिवार को श्रीलंका के राष्ट्रपति के आवास पर दिन में अचानक हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारी घुस आए. कहा जा रहा है कि राष्ट्रपति गोटाबाया देश छोड़कर भाग गए हैं. पिछले कुछ महीनों से श्रीलंका की जनता आर्थिक संकट से जूझ रही है. महंगाई चरम पर है. लोगों की जरूरतों के सामान के दाम आसमान छू रहे हैं. इसे लेकर लोग सरकार की नीतियों को जिम्मेदार ठहरा रहे हैं.

Post a Comment

0 Comments